25.1 C
New Delhi
Monday, April 22, 2024
होमदेश-विदेशवाटर लेवल से 35 फीट नीचे पहुंचे गोताखोर, सालों से बंद आईटीओ...

वाटर लेवल से 35 फीट नीचे पहुंचे गोताखोर, सालों से बंद आईटीओ बैराज का गेट खोलने की कोशिश

नई दिल्ली।

दिल्ली में यमुना नदी का जलस्तर लगातार कम हो रहा है और जिस आईटीओ बैराज को लेकर पिछले दो दिन से लगातार बयानबाजी हो रही है, उसके बाकी के 4 फाटक आज खुल जाने की संभावना है। विशेषज्ञों और गोताखोरों की एक टीम वाटर लेवल से 35 फीट नीचे जाम हुए गेट्स को साफ करने के लिए लगातार काम कर रही है। हर हिस्से से प्रवाह को नियंत्रित करने के लिए गेट खुले रहेंगे। आर्मी, नेवी, विशेषज्ञ और गोताखोरों की टीम इसे खोलने के लिए लगातार जुटी हुई है।

विशेषज्ञों की टीम का कहना है, जल्द ही चारों दरवाजे खोले जा सकते हैं जिसके बाद पानी इन दरवाजों से निकलकर आगे बह जाएगा। शनिवार को ही आईटीओ बैराज का पहला जाम हुआ गेट खोला गया था। गोताखोर टीम ने पानी के नीचे से सिल्ट कंप्रेसर द्वारा निकाली, फिर हाईड्रा क्रेन से गेट को खींचकर खोला था। दिल्ली सरकार के मंत्री सौरभ भारद्वाज ने बताया कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के दिशा- निर्देश पर हरियाणा सरकार के आईटीओ ब्रिज के बैराज पर मौजूद हूं। अपनी ही देखरेख में बाकी 4 गेट्स खुलवाने का कार्य करवा रहा हूं।

इस बैराज में कुल 32 गेट हैं, जिसमें से 27 खुले हैं और पांच बंद हैं। पांच बंद गेट्स में से एक गेट शनिवार को कड़ी मशक्कत के बाद खोला गया। यमुना में दशकों बाद इतनी भीषण बाढ़ आई जिसकी वजह से पांच बंद गेट्स को खोलना पड़ा। लंबे समय तक बंद रहने की वजह से इन गेट्स में सिल्ट जमने के साथ-साथ गेट्स में जंक लगता गया। पहले गोताखोरों और इंजीनियरों की टीम ने सिल्ट और जंक को साफ किया जिसके बाद गेट्स को खोलने का काम शुरू किया गया।

जरूरी गेट्स का खुलना

New Delhi: Indian Army engineering regiment officials work to open the Yamuna bridge gate, at ITO in New Delhi, Friday, July 14, 2023. (PTI Photo/Manvender Vashisht Lav)(PTI07_15_2023_000098B)

दरअसल हरियाणा के हथिनीकुंड बैराज से पानी छोड़े जाने के बाद यमुना का जल स्तर खतरे के निशान से काफी ऊपर चला गया था। इसकी वजह से दिल्ली में बाढ़ जैसे हालात हो गए और कई इलाके जलमग्न हो गए। अगर बैराज के सभी गेट खुले होते तो पानी नजदीकी इलाकों में घुसने की बजाय सीधे निकल गया होता। ऐसे में सालों से बंद पड़े बैराज के ये गेट खोलने जरूरी हो गए थे। अब अगर आने वाले दिनों में अगर हथिनीकुंड बैराज से औऱ पानी छोड़ा जाता है या दिल्ली में अधिक बारिश होती है तो फिर इन खुले गेट्स से पानी तेजी से निकल सकेगा।

प्रगति मैदान अंडरपास बंद

New Delhi: Commuters move through a waterlogged road at ITO, in New Delhi, Saturday, July 15, 2023. After wreaking havoc on lives and livelihoods in parts of Delhi close to it, the swollen Yamuna on Saturday morning followed a downward trend, albeit at a slow pace of a few centimetres per hour. (PTI Photo/Kamal Singh)(PTI07_15_2023_RPT041B)

वहीं प्रगति मैदान अंडर पास पर कल देर रात बारिश की वजह से पानी भरा और साथ ही यहां एक नाला टूट गया जिस से यहां काफी जल जमाव हो गया। रविवार को यहां एक कार डूब कर फंस गई थी। सोमवार को जब दफ्तर खुलेंगे तो जाम की स्थिति देखने को मिल सकती है क्योंकि नोएडा की तरफ आने वाले लोग अमूमन इस अंडर पास का इस्तेमाल करते हैं। फिलहाल यहां बड़ी संख्या में सिविल डिफेंस के लोग तैनात कर दिए गए हैं।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments