नागरिकों की सुरक्षा के लिए कानून प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा अपनाए गए नवीन दृष्टिकोण को FICCI स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड्स से सम्मानित किया गया

नई दिल्ली।

फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (FICCI) ने शुक्रवार को दिल्ली स्थित फिक्की हाउस में विवेकानंद इंटरनेशनल फाउंडेशन(VIF) के सहयोग से फिक्की होमलैंड सिक्योरिटी कॉन्फ्रेंस 2023 का सफलतापूर्वक आयोजन किया। इस कार्यक्रम ने गहन चर्चा व आंतरिक सुरक्षा और पुलिसिंग रणनीतियों में अत्याधुनिक प्रगति की खोज के लिए एक अमूल्य मंच प्रदान किया।

कॉन्फ्रेंस का मुख्य आकर्षण प्रतिष्ठित FICCI स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड्स की प्रस्तुति थी। ये पुरस्कार होमलैंड सिक्योरिटी और पुलिसिंग के क्षेत्र में राज्य पुलिस विभागों, केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (सीएपीएफ) और केंद्रीय पुलिस संगठनों (सीपीओ) के उल्लेखनीय योगदान के लिए दिए गए। ये पुरस्कार हमारे देश की सुरक्षा में इन संगठनों के समर्पण और इनोवेशन को मान्यता दिलाने के लिए दिए गए।

सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के पूर्व महानिदेशक एवं उत्तर प्रदेश और असम के पूर्व पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) श्री प्रकाश सिंह ने कहा कि भारत में बढ़ते डिजिटलीकरण से साइबर जोखिम बढ़ गया है। उन्होंने विशेषकर आंतरिक सुरक्षा अनुप्रयोगों में एआई से जुड़ी संभावनाओं और जोखिमों पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि प्रौद्योगिकी अपनाने में देरी के बावजूद, भारत कानून प्रवर्तन क्षमताओं को बढ़ाने का प्रयास कर रहा है। श्री सिंह ने प्रौद्योगिकी से उत्पन्न खतरों से आगे रहने के लिए सशस्त्र बलों और कानून प्रवर्तन को मजबूत करने के महत्व पर जोर दिया।

श्रीमती मंजरी जरुहर, FICCI कमेटी ऑन प्राइवेट सिक्योरिटी इंडस्ट्री सलाहकार और पूर्व विशेष महानिदेशक सीआईएसएफ, भारत सरकार ने ‘स्माइल’ और ‘मुस्कान ‘पहल में राज्य पुलिस विभागों के प्रयासों की सराहना की, जिसका सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। उन्होंने G-20 कार्यक्रम के प्रभावी प्रबंधन के लिए दिल्ली पुलिस की भी सराहना की। सुश्री जरुहर ने पुलिस के निरंतर इनोवेशन और अपराध प्रबंधन प्रयासों के साथ-साथ एनसीबी और सीआरएफ की पहल की भी प्रशंसा की, जो भारत में कानून प्रवर्तन के समग्र सुधार में योगदान दे रहे हैं। उन्होंने FICCI स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड्स के बारे में बात करते हुए कहा कि पिछले 7 वर्षों में जूरी द्वारा 1100 से अधिक नामांकन किए हैं। 208 ऐसी पहल हैं जिन्होंने एलईए को उच्च स्तर की विशेषज्ञता और दक्षता प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित किया।

विवेकानंद इंटरनेशनल फाउंडेशन के निदेशक और भारत सरकार के पूर्व उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार डॉ. अरविंद गुप्ता ने कहा कि प्रौद्योगिकी और साइबर सुरक्षा हाल के वर्षों में महत्वपूर्ण कारक बन गए हैं। उन्होंने गेम-चेंजर के रूप में प्रौद्योगिकी की भूमिका को दर्शाते हुए विकास के परिवर्तनकारी प्रभाव पर प्रकाश डाला। उन्होंने नकारात्मक ताकतों से एक कदम आगे बढ़ते हुए पुलिस बलों को मजबूत करने के प्रयासों के संयोजन की आवश्यकता पर जोर दिया।

FICCI होमलैंड सिक्योरिटी के सह-चेयरमैन और Vehere के निदेशक श्री प्रवीण जयसवाल ने FICCIहोमलैंड सिक्योरिटी कॉन्फ्रेंस के सफलतापूर्वक आयोजन पर संतोष व्यक्त किया और राष्ट्र की सुरक्षा को प्रभावित करने वाले मामलो पर आवश्यक संवाद की सुविधा प्रदान करने की प्रतिबद्धता को महत्वपूर्ण बताया। उन्होंने कहा कि भारत जैसे देश के लिए, जो एक ज्ञान अर्थव्यवस्था के रूप में अग्रणी है, साइबर असुरक्षा को कम करने और साइबर रक्षा संसाधनों को बढ़ाने के लिए अत्याधुनिक स्वदेशी क्षमताओं को विकसित करना बहुत महत्वपूर्ण है। भारतीय उद्योग इस मोर्चे पर सरकारी एजेंसियों और LEAs के साथ हाथ मिलाने के लिए तैयार है।

भारत सरकार के पूर्व राष्ट्रीय साइबर सुरक्षा समन्वयक डॉ. गुलशन राय ने होमलैंड सिक्योरिटी में आईटी क्षेत्र के उदय से आए परिवर्तन पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि एआई ने कुशल योजना की विशेषता वाला एक अनूठा परिदृश्य पेश किया है, जिससे पता चलता है कि ऐसी तकनीक तक पहुंच से संभावित रूप से 26/11 के हमलों जैसी घटनाओं को अधिक प्रभावी ढंग से रोका जा सकता है।

उद्घाटन सत्र के बाद, सम्मेलन में चार आकर्षक और जानकारीपूर्ण सत्र आयोजित किये गये:

सत्र 1: आंतरिक सुरक्षा के लिए एआई, एमएल और डेटा एनालिटिक्स

सत्र 2: प्रभावी कानून प्रवर्तन के लिए साइबर अपराध प्रबंधन

सत्र 3: आंतरिक सुरक्षा के लिए उभरती प्रौद्योगिकियां

सत्र 4: स्मार्ट पुलिसिंग में सर्वोत्तम अभ्यास

FICCI होमलैंड सिक्योरिटी कॉन्फ्रेंस 2023 वास्तव में एक बौद्धिक रूप से प्रेरक और सूचनात्मक कार्यक्रम था, जो विचारों के आदान-प्रदान और हमारे देश की सुरक्षा के सामने आने वाली जटिल चुनौतियों के लिए नवीन समाधानों की खोज के लिए एक मंच प्रदान करता है। फिक्की उन सभी प्रतिभागियों और हितधारकों के प्रति अपना आभार व्यक्त करता है जिन्होंने इस सम्मेलन को सफल बनाने में योगदान दिया।

इनको दिया गया स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *