होमक्राइमकिसानों का दिल्ली कूच का ऐलान, मोदी सरकार की बढ़ी मुसीबत, हरियाणा-पंजाब...

किसानों का दिल्ली कूच का ऐलान, मोदी सरकार की बढ़ी मुसीबत, हरियाणा-पंजाब बॉर्डर पर पुलिस की पैनी नजर

फाइल फोटो

नई दिल्ली।

13 फरवरी को किसानों द्वारा आंदोलन की कॉल को लेकर पुलिस प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट है। चेतावनी दी गई है कि यदि कोई व्यक्ति किसान आंदोलन, सभा, जुलूस आदि में भाग लेता है तो उसका पासपोर्ट रद्द किया जा सकता है। यही नहीं हर गतिविधि पर नजर रखने के लिए पुलिस द्वारा ड्रोन कैमरों की मदद भी ली जाएगी।

ड्रोन कैमरों से ही व्यक्तियों की पहचान होगी। दूसरी ओर हरियाणा-पंजाब बार्डर पर पुलिस की गश्त तेज है, जबकि हर गतिविधि पर नजर रखी जा रही है। पंजाब से हरियाणा आने वाले हर रास्ते पर हो रही गतिविधियों पर पुलिस नजर रख रही है और लगातार इनपुट भी दिए जा रहे हैं।

पुलिस का कहना है कि इनपुट मिले हैं कि 13 फरवरी को कुछ किसानों द्वारा आंदोलन में भाग लिया जा सकता है। इसी कारण से चेतावनी दी है कि लोग इसमें भाग न लें। पुलिस का कहना है कि यदि कोई व्यक्ति इस में भाग लेता है तो उसक पासपोर्ट तक रद्द करने की कार्रवाई हो सकती है। ड्रोन के माध्यम से वीडियोग्राफी की जाएगी ताकि लोगों की पहचान हो सके। इसी के आधार पर बाद में पुलिस अपनी कार्रवाई को अंजाम देगी। पुलिस ने यह भी कहा कि आंदोलनकारियों द्वारा यदि सरकारी संपत्ति अथवा आमजन को नुकसान पहुंचाया जाता है तो उस पर नियम अनुसार कार्रवाई की जाएगी। अनुमति के बाद ही सभा आदि करने की इजाजत होगी और यदि शांति भंग होने की संभावना दिखती है तो उसे रद्द भी किया जा सकता है।

धारा 144 भी लगाई जाएगी

पुलिस ने कहा कि 13 फरवरी को किसानों के द्वारा किए जाने वाले दिल्ली कूच की घोषणा को देखते हुए जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन द्वारा सभी पुख्ता प्रबंध किए जा रहे हैं। बाकायदा इसके लिए धारा 144 के आदेश भी प्रशासन द्वारा जारी किए जाएंगे ताकि जिला में कानून एवं शांति व्यवस्था बनी रहे। जिला में सीआरपीएफ की टीम में भी तैनात की जाएगी। जिससे कि कानून व्यवस्था बनाई रखी जा सके। उन्होंने कहा कि पुलिस प्रशासन द्वारा किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए पुलिस जवानों को प्रशिक्षण भी करवाया गया है। मकसद सिर्फ यह है कि कानून एवं शांति व्यवस्था बनी रहे।

कच्चे से पक्के रास्ते होंगे सील

आंदोलन को देखते हुए पुलिस ने हरियाणा-पंजाब से जुड़े करीब बीस रास्तों को चिन्हित किया है, जिनको सील कर दिया जाएगा। हरियाणा पुलिस के साथ फोर्स को भी तैनात किया जाएगा। 10 फरवरी से रास्तों को सील करना शुरू कर दिया जाएगा। इस रूट से लाखों लोगों का आना जाना होता है, जिससे परेशानियां बढ़ना तय है। ऐसे में एडवाइजरी भी जारी की जाएगी कि लोग किस रूट से निकल सकते हैं। आपात स्थिति से निपटने के लिए वाटर कैनन, आंसू गैस के गोले सहित अन्य व्यवस्था तैयार करनी शुरू कर दी हैं। किस-किस आइपीएस, एचपीएस और प्रशासनिक अधिकारी की ड्यूटी लगाई जानी है।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments