चैंपियंस ट्रॉफी: पाकिस्तान में मैच नहीं खेलेगा भारत, आईसीसी के समक्ष बीसीसीआई रख सकती ये मांग

चैंपियंस ट्रॉफी: पाकिस्तान में मैच नहीं खेलेगा भारत, आईसीसी के समक्ष बीसीसीआई रख सकती ये मांग

पीसीबी ने इस टूर्नामेंट की तैयारियां शुरू कर दी हैं, और आईसीसी ने इसके लिए समय स्लॉट ढूंढना भी शुरू कर दिया है। पीसीबी ने कराची, लाहौर और रावलपिंडी के स्टेडियमों की मरम्मत के लिए करीब 17 अरब रुपए का बजट आवंटित किया है। चैंपियंस ट्रॉफी

चैंपियंस ट्रॉफी
चैंपियंस ट्रॉफी: पाकिस्तान में मैच नहीं खेलेगा भारत, आईसीसी के समक्ष बीसीसीआई रख सकती ये मांग

चैंपियंस ट्रॉफी की तैयारी: अगले साल पाकिस्तान में चैंपियंस ट्रॉफी का आयोजन होना है और पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने इसकी तैयारियां शुरू कर दी हैं। सभी की नजरें इस बात पर हैं कि भारतीय टीम इस टूर्नामेंट के लिए पाकिस्तान जाएगी या नहीं? भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने इस बारे में आधिकारिक रूप से कुछ भी नहीं कहा है, लेकिन खबरें हैं कि भारतीय टीम पाकिस्तान की यात्रा नहीं करेगी।

श्रीलंका या दुबई में मैच कराने का सुझाव दे सकता है बीसीसीआई

न्यूज एजेंसी एएनआई के अनुसार, भारतीय टीम के चैंपियंस ट्रॉफी के लिए पाकिस्तान जाने की संभावना बेहद कम है। बीसीसीआई के सूत्रों के मुताबिक, बोर्ड आईसीसी से मुकाबले दुबई या श्रीलंका में कराने के लिए कह सकता है। पिछले साल एशिया कप भी हाईब्रिड मॉडल के तहत आयोजित किया गया था जिसमें भारत के सभी मैच श्रीलंका में हुए थे।

बीसीसीआई के एक सूत्र ने कहा, “भारतीय टीम के चैंपियंस ट्रॉफी के लिए पाकिस्तान जाने की संभावना कम है, लेकिन अंतिम निर्णय सरकार लेगी। हाईब्रिड मॉडल पर काम किया जाएगा, जिसमें भारत अपने मुकाबले यूएई या श्रीलंका में खेल सकता है। हालांकि, अंतिम फैसला आईसीसी करेगी, लेकिन फिलहाल हम इसी पर विचार कर रहे हैं। देखते हैं कि भविष्य में चीजें कैसे आगे बढ़ती हैं।”

पाकिस्तान की तैयारियां

पीसीबी ने इस टूर्नामेंट के लिए तैयारियां शुरू कर दी हैं और आईसीसी ने इसके लिए विंडो तलाशना भी शुरू कर दिया है। पीसीबी ने कराची, लाहौर और रावलपिंडी में अपने स्टेडियमों की मरम्मत के लिए लगभग 17 अरब रुपए आवंटित किए हैं। पीसीबी के चेयरमैन मोहसिन नकवी ने बोर्ड के सदस्यों को बताया कि चैंपियंस ट्रॉफी पूरी तरह से पाकिस्तान में आयोजित की जाएगी और इस महीने के अंत में कोलंबो में होने वाली आईसीसी की वार्षिक बोर्ड बैठक में इस पर चर्चा की जाएगी।

बीसीसीआई के फैसले पर नजरें

1996 के बाद पहली बार पाकिस्तान किसी बड़े आईसीसी टूर्नामेंट की मेजबानी करेगा, हालांकि उसने 2008 में एशिया कप की मेजबानी की थी और पिछले साल भी इस टूर्नामेंट के कुछ मैच पाकिस्तान में आयोजित किए गए थे। बीसीसीआई को अभी आधिकारिक रूप से पुष्टि करनी है कि वह राष्ट्रीय टीम को आईसीसी टूर्नामेंट के लिए पाकिस्तान भेजेगा या नहीं। बोर्ड के इस फैसले पर सभी की नजरें टिकी हुई हैं।

भारत-पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय सीरीज का अभाव

भारत और पाकिस्तान के बीच 2012-13 सीजन के बाद से अब तक द्विपक्षीय सीरीज नहीं खेली गई है। भारतीय टीम 2008 के बाद से कभी भी पाकिस्तान के दौरे पर नहीं गई है। पिछले साल तत्कालीन केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा था कि भारत पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय क्रिकेट सीरीज तब तक नहीं खेलेगा जब तक पाकिस्तान सीमा पार आतंकवाद बंद नहीं कर देता।

सिर्फ आईसीसी टूर्नामेंट में मुकाबला

भारत और पाकिस्तान की टीमें सिर्फ आईसीसी टूर्नामेंट में ही एक दूसरे का सामना करती हैं। पिछले महीने न्यूयॉर्क में दोनों टीमों के बीच टी20 विश्व कप के ग्रुप चरण का मुकाबला हुआ था जिसमें भारत ने जीत दर्ज की थी। इससे पहले, 2023 में भारत में हुए वनडे विश्व कप में भी भारत ने ग्रुप चरण के मुकाबले में पाकिस्तान को हराया था। पाकिस्तान ने 2017 में चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में भारतीय टीम को मात दी थी और वह इस टूर्नामेंट में खिताब का बचाव करेगा।

ये भी पढ़ें :- Paris Olympics 2024: खिलाड़ियों की रवानगी से पहले पीएम मोदी ने दी जीत की शुभकामनाएं

खेल Sports