दिग्गज कार कंपनियों के नकली एयरबैग बनाने वाले गैंग को दिल्ली पुलिस ने पकड़ा, करीब 2 करोड़ के नकली एयरबैग किए बरामद

दिग्गज कार कंपनियों के नकली एयरबैग बनाने वाले गैंग को दिल्ली पुलिस ने पकड़ा, करीब 2 करोड़ के नकली एयरबैग किए बरामद

नई दिल्ली।

दिल्ली पुलिस ने बीएमडब्ल्यू सहित दिग्गज कार कंपनियों की गाड़ियों के नकली एयरबैग बनाने वाले एक गैंग को पकड़ा है। ये गैंग 16 जानी-मानी ब्रांडेड कार कंपनियों के नकली एयरबैग बनाकर बाजार में बेच रहा था। आरोपियों के पास से करीब 900 से अधिक नकली एयरबैग मिले हैं। नकली एयरबैग की कीमत करीब 1 करोड़ 84 लाख 20 हजार रुपये आंकी गई है। एक अधिकारी ने बताया कि माता सुंदरी रोड पर 16 अप्रैल को झुग्गियों में रेड कर दिल्ली पुलिस ने इस गैंग का पर्दाफाश किया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार दिल्ली पुलिस ने नामी कंपनियों की गाड़ियों के नकली एयरबैग बनाने की दो वर्कशॉप पकड़ी हैं। इस मामले में डीसीपी (सेंट्रल) एम हर्षवर्धन ने बताया कि 900 से ज्यादा नकली एयरबैग मिले हैं। हर्ष वर्धन के अनुसार, स्पेशल स्टाफ की एक टीम ने माता सुंदरी रोड के पास दो वर्कशॉप पर छापा मारा, जहां आरोपी शीर्ष कार कंपनियों के नकली एयरबैग बना रहे थे। वर्कशॉप से तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। आरोपी तुर्कमान गेट निवासी फैजान (26), मोहम्मद फुरकान (35) और माता सुंदरी रोड निवासी मोहम्मद फराज (35) को दिल्ली पुलिस ने रेड के दौरान गिरफ्तार किया है।

मिली जानकारी के अनुसार एमजी के 12 एयरबैग, बीएमडब्ल्यू के 13, सिट्रोएन के 22, निसान के 23, रेनॉल्ट के 27, फॉक्सवैगन के 17, महिंद्रा के 20, टोयोटा के 14, टाटा के 32, होंडा के 39, स्कोडा के 57 और हुंडई कारों के 66 एयरबैग एक गोदाम से जब्त किए गए हैं। जबकि सुजुकी के कम से कम 86 एयरबैग, किआ के 12, फोर्ड के 8, वोल्वो के 3, बिना लोगो वाले 15 एयरबैग और 109 कच्चा माल अन्य वर्कशॉप से जब्त किए गए। पुलिस ने कहा कि आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है और मामले में आगे की पूछताछ जारी है।

डीसीपी हर्षवर्धन ने बताया कि माता सुंदरी रोड स्थित गुरुद्वारा के करीब दो झुग्गियों में नकली एयरबैग बनाने की सूचना 16 अप्रैल को पुलिस को मिली थी। आम जनता की सुरक्षा के खतरे के मद्देनजर जिला दिल्ली पुलिस की टीम ने दोनों झुग्गियों में छापेमारी की। पुलिस को वहां पर नामी कंपनियों की गाड़ियों के नकली एयरबैग बनाने की वर्कशॉप मिलीं।

क्राइम