दिल्ली में लुटेरे आम आदमी समझ पहुंचे लूटने, वह निकला एनकाउंटर स्पेशलिस्ट, पकड़े गए

दिल्ली में लुटेरे आम आदमी समझ पहुंचे लूटने, वह निकला एनकाउंटर स्पेशलिस्ट, पकड़े गए

नई दिल्ली।

दिल्ली के चाणक्यपुरी में ट्रैक सूट पहनकर एक पार्क में टहल रहे दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के एनकाउंटर स्पेशलिस्ट इंस्पेक्टर से सोने की चेन लूटने की कोशिश दो लुटेरों को महंगी पड़ गई। इंस्पेक्टर ने बहादुरी के साथ अकेले ही दोनों हथियारबंद बदमाशों को धर दबोचा।

जानकारी के अनुसार शनिवार शाम जब दो लुटेरों ने चाणक्यपुरी के नेहरू पार्क के गेट पर एक व्यक्ति को अपना निशाना बनाया तो उन्हें इस बात का कोई अंदाजा नहीं था कि वे क्या कर बैठे हैं। उन्होंने उस व्यक्ति की सोने की चेन छीनने की कोशिश की, लेकिन नाकाम रहे। इसके बाद उन्होंने गन निकाल ली और उस व्यक्ति पर हमला करते हुए उसे गोली मारने की धमकी दी। उन्होंने उसे बंदूक की नोंक उसके गले में पड़ी सोने की चेन तोड़ ली और भागने लगे।

हालांकि, यह घटना किसी और व्यक्ति के साथ होती तो आम झपटमारी के तौर पर छोटी सी खबर बनकर रह जाती। लेकिन लुटेरों ने यहां जिस शख्स को निशाना बनाया वह दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के जांबाज एनकाउंटर स्पेशलिस्ट विनोद बडोला थे। कुछ ही सेकेंड में तब पासा पलट गया, जब निहत्थे बडोला अकेले ही उन हथियारबंद लुटेरों से भिड़ गए और सड़क पर पैदल ही उनके पीछे दौड़ने लगे। कुछ दूर भागने के बाद पुलिस अधिकारी ने उनमें से एक को धर दबोचा। हालांकि, दूसरा लुटेरा वहां से भागने में सफल रहा।

इसके बाद बडोला ने 112 नंबर डायल कर पीसीआर को घटना की सूचना दी। इस पर भी उन्होंने हार नहीं मानी और स्थानीय पुलिस के साथ दूसरे लुटेरे की तलाश शुरू कर दी। दूसरे अपराधी ने भागने की कोशिश की और राहगीरों के बीच छिपकर एक फव्वारे के पास बैठ गया। उन्होंने उसे भी ढूंढ़कर पकड़ लिया।

डीसीपी (नई दिल्ली) देवेश महला ने कहा कि दोनों लुटेरों की पहचान सरोजिनी नगर के गौरव और तुगलक रोड पर एक झुग्गी बस्ती में रहने वाले पवन देव के रूप में हुई है। दोनों पर हत्या के प्रयास के साथ डकैती की कड़ी धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।

48 वर्षीय विनोद बडोला कई हाई-प्रोफाइल ऑपरेशनों और एनकाउंटरों में शामिल रहे हैं। अक्टूबर 2013 में बडोला और उनकी टीम ने दिल्ली के व्यापारियों के लिए आतंक बन चुके गैंगस्टर नीटू दाबोदिया को ट्रैक किया और दक्षिणी दिल्ली के वसंत कुंज में एक फाइव स्टार होटल के पास एक मुठभेड़ में उसे मार गिराया था। उसके बाद बडोला कई आतंकवाद विरोधी अभियानों में भी शामिल रहे, जिनमें से एक के लिए उन्हें प्रतिष्ठित केंद्रीय गृह मंत्री के स्पेशल ऑपरेशंस मेडल से भी सम्मानित किया गया था।

क्राइम