अंतरराष्ट्रीय गिरोह का भंडाफोड़: दिल्ली में चल रहा था कैंसर की नकली दवा बनाने का कारोबार, पुलिस ने 7 किए गिरफ्तार

अंतरराष्ट्रीय गिरोह का भंडाफोड़: दिल्ली में चल रहा था कैंसर की नकली दवा बनाने का कारोबार, पुलिस ने 7 किए गिरफ्तार

नई दिल्ली।

दिल्ली-एनसीआर में नकली दवा बनाने वाले गिरोह का भंडाफोड़ हुआ है। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने नकली दवाइयां बनाने और सप्लाई करने वाले एक अंतरराष्ट्रीय गिरोह का भंडाफोड़ किया है। पुलिस ने इस मामले में सात आरोपियों को गिरफ्तार किया है, इनमें दिल्ली के कैंसर के जाने माने अस्पताल के दो कर्मचारी भी शामिल हैं। सभी आरोपी कैंसर के 1.96 लाख रुपये के इंजेक्शन में नकली दवाइयां भरकर बेचते थे। कैंसर की इन नकली दवाईयों को फार्मासिस्ट सिर्फ देश ही नहीं बल्कि चीन और अमेरिका जैसे देशों में भी सप्लाई करते थे।

क्राइम ब्रांच ने आरोपियों के कब्जे से 89 लाख रुपये नकद, 18 हजार रुपये के डॉलर और चार करोड़ रुपये की 7 अंतरराष्ट्रीय और 2 भारतीय ब्रांडों की नकली कैंसर दवाएं बरामद की है। स्पेशल सीपी क्राइम ब्रांच शालिनी सिंह के मुताबिक तीन महीने की जांच के बाद उनकी टीम ने इस गिरोह का भंडाफोड़ किया है। उन्होंने बताया कि पुलिस टीम ने दिल्ली-एनसीआर में 7- 8 जगहों पर एक साथ छापेमारी की। रेड के दौरान डीएलएफ कैपिटल ग्रीन्स, मोती नगर के दो फ्लैट में नकली दवाइयां बनाते हुए पकड़ी गईं।

कैंसर की दवा की खाली शीशियों मे भरी जाती थी नकली दवा

पुलिस ने बताया कि यहां पर विफिल जैन नाम के एक आरोपी ने दवा और इंजेक्शन लगाने की यूनिट लगाई हुई थी। विफिल जैन ही नकली दवा के इस रैकेट का सरगना है। इन जगहों पर नकली कैंसर की दवा को शीशियों को फिर से भरने और बनाने के लिए यानि रीफिलिंग और पैकेजिंग का काम किया था जाता था। पुलिस ने फ्लेट्स से 3 कैप सीलिंग मशीनें, 1 हीट गन मशीन और 197 खाली शीशियां बरामद की हैं। नीरज चौहान नाम के एक आरोपी ने गुरुग्राम के एक फ्लैट में नकली कैंसर इंजेक्शन और शीशियों का बड़ा जखीरा जमा कर रखा था। पुलिस को यहां पर नकली कैंसर इंजेक्शनों की 137 शीशियां, 519 खाली शीशियां और शीशियों के 864 खाली पैकेजिंग बॉक्स मिले हैं। नीरज की निशानदेही पर उसके चचेरे भाई तुषार चौहान को भी गिरफ्तार किया गया, वह भी इस सप्लाई चेन में शामिल था।

मेडिकल से जुड़े हैं सभी आरोपी

दिल्ली के यमुना विहार से परवेज़ नाम के शख्स को गिरफ्तार किया गया, वह विफिल जैन के लिए खाली शीशियों की व्यवस्था करता था। उसके कब्जे से 20 खाली शीशियां बरामद हुईं। वहीं दिल्ली स्थित कैंसर अस्पताल के दो कर्मचारी कोमल तिवारी और अभिनय कोहली को भी गिरफ्तार किया गया। ये लोग अस्पताल में खाली हुई शीशियों को इन आरोपियों को उपलब्ध कराते थे। पुलिस ने नकली दवा का रैकेट चलाने के मामले में सात आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इनके नाम विफिल जैन, सूरज शत, नीरज चौहान , परवेज़, कोमल तिवारी, अभिनय कोहली और तुषार चौहान हैं। सभी आरोपी किसी न किसी तरह से मेडिकल से जुड़े हैं।

क्राइम