पीएम मोदी ने किया द्वारका एक्सप्रेसवे का उद्घाटन, अब दिल्ली-हरियाणा के बीच बेहतर होगा ट्रैफिक, 20 मिनट में पहुंचेंगे मानेसर

पीएम मोदी ने किया द्वारका एक्सप्रेसवे का उद्घाटन, अब दिल्ली-हरियाणा के बीच बेहतर होगा ट्रैफिक, 20 मिनट में पहुंचेंगे मानेसर

देश का पहला सिंगल पिलर वाला एक्सप्रेस-वे

नई दिल्ली।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को गुरुग्राम में आयोजित एक कार्यक्रम से देशभर में एक लाख करोड़ रुपये की लागत वाली 114 परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया। पीएम मोदी ने रिमोट का बटन दबाकर द्वारका एक्सप्रेसवे का उद्घाटन किया।

पीएम ने कहा कि देश ने आज आधुनिक कनेक्टिविटी की ओर आज एक और कदम बढ़ाया है। अब दिल्ली हरियाणा के बीच ट्रैफिक बेहतर होगा। इस एक्सप्रेसवे से इकोनॉमिक एक्टिविटी को बढ़ावा मिलेगा। इससे इंडस्ट्री और एक्सपोर्ट को बढ़ावा मिलेगा। पीएम ने कहा कि आज यहां देशभर के लिए 1 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा की 100 से अधिक परियोजनाओं का लोकार्पण या शिलान्यास हो रहा है। सभी राज्यों के करोड़ों नागरिकों को इतनी सारी विकास परियोजनाओं के लिए बहुत-बहुत बधाई देता हूं।

इस मौके पर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि आज एक ऐसा प्रोजेक्ट लोगों को मिला है जो एक बड़ी सौगात है। आर्ट ऑफ स्टेट के रूप में इस द्वारका एक्सप्रेस वें को देखा जायेगा। हरियाणा में विकास की गाथा लिखी गई जो प्रधानमंत्री के सहयोग से पूरा हो पाया है। हरियाणा की देश की जीडीपी में 4 प्रतिशत भागीदारी है। इस बार भी हरियाणा के लोग बीजेपी को सभी 10 लोकसभा सीट जीतकर दें

देश का पहला सिंगल पिलर वाला एक्सप्रेस-वे

29 किलोमीटर के एक्सप्रेस-वे को करीब 9000 करोड़ रुपये की लागत से बनाया जा रहा है जिसमें 8 लेन है। पीएम मोदी ने इसके 19 किलोमीटर के हिस्से को जनता को समर्पित किया है जो कि हरियाणा में है। दिल्ली में इसका दायरा 10.1 किलोमीटर तक फैला होगा जिसका काम जून तक पूरा होने की संभावना है। यह देश का पहला एक्सप्रेस-वे होगा जो कि सिंगल पिलर पर बनाया गया है। हरियाणा में सिंगल पिलर पर 34 मीटर चौड़ा और दिल्ली में 10.1 किलोमीटर लंबाई की सड़क होगी..

एक्सप्रेस-वे से क्या होगा असर?

यह एक्सप्रेस-वे गुरुग्राम के सेक्टर 88, 83, 84, 99, 113 को दिल्ली के द्वारका सेक्टर-21 से जोड़ेगा। ऐसे में इससे कनेक्टिविटी तो बेहतर होगी है वहीं इलाके के आसपास के क्षेत्रों का भी विकास होगा। बताया जा रहा है कि इससे गुरुग्राम के लाखों लोगों को फायदा होगाख् न केवल 20 से अधिक कॉलोनियां सीधे एक्सप्रेस-वे से जुड़ेंगी बल्कि 10 से अधिक गांव भी एक्सप्रेस-वे के पास हैं।

जाम कितना घटेगा?

एक्सप्रेस-वे से गुरुग्राम और दिल्ली के आईजीआई एयरपोर्ट के बीच ट्रैफिक सुगम हो जाएगा। गुरुग्राम से इंदिरा गांधी एयरपोर्ट एनएच-48 से गुजरकर जाते हैं और इस रास्ते में जाम भी मिलता है लेकिन एक्सप्रेस-वे से बिना बाधा पहुंचा जा सकेगा। इसके अलावा इससे दिल्ली से जयपुर, हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश की कनेक्टविटी और अच्छी हो जाएगी। दिल्ली से जयपुर जाने वाले यात्रियों को सरहौल बॉर्डर पर जाम में फंसना पड़ता है। अब न केवल जाम से मुक्ति मिलेगा बल्कि नेशनल हाइवे पर भी दबाव कम हो जाएगा।

कितना कम होगा वेटिंग टाइम

एक्सप्रेस-वे न केवल लोगों को जाम की समस्या से निजात दिलाएगा बल्कि दिल्ली से गुड़गांव की दूरी भी एकतरह से कम कर देगा। पहले दिल्ली से मानेसर जाने में एक घंटे लग जाते थे और अगर जाम लगा हो तो फिर दो घंटे का ट्रैवल टाइम हो जाता था जबकि अब केवल 20 मिनट में पहुंचा जा सकेगा। इसके अलावा दिल्ली के जनकपुरी, पीतमपुरा और रोहिणी के अलग-अलग सेक्टरों में भी पहले से कम समय में पहुंचा जा सकेगा। दिल्ली का हिस्सा शुरू होने पर एयरपोर्ट तक 25 मिनट में पहुंचा जा सकेगा।

देश-विदेश पॉलिटिक्स व्यापार