श्रद्धांजलि 2024: अन्नपूर्णा देवी और पंडित बिरजू महाराज जी को दी गई श्रद्धांजलि

श्रद्धांजलि 2024: अन्नपूर्णा देवी और पंडित बिरजू महाराज जी को दी गई श्रद्धांजलि

श्रद्धांजलि ने शास्त्रीय प्रतीकों के शानदार जीवन का स्मरण कराया

वार्षिक छात्रवृत्ति भी की गई प्रदान

नई दिल्ली।

दिल्ली के इंडिया हैबिटेट सेंटर में गुरुवार 18 जनवरी को अन्नपूर्णा देवी जी (अम्मा जी) और बिरजू महाराज के शानदार जीवन की परंपरा को श्रद्धांजलि समर्पित की गई। इनके स्थायी प्रभाव ने शास्त्रीय कला की दुनिया को आकार देना जारी रखा और उन मूल्यों का उदाहरण दिया जो उनके बच्चों और पोते-पोतियों के माध्यम से गूंजते रहे।

क्योंकि अम्माजी की पुण्य तिथि मनाई गई, इस वर्ष की श्रद्धांजलि ने एक अविस्मरणीय अनुभव साझा किया। कार्यक्रम की शुरुआत श्री त्रिभुवन महाराज की मनमोहक प्रस्तुति के साथ हुई, जिसके बाद सुश्री विधि शर्मा की मनमोहक गायन प्रस्तुति और प्रसिद्ध पंडित योगेश सैमसी द्वारा तबला वादन हुआ।

हर बार का एहसास खास था क्योंकि वे सिर्फ हमारे माता-पिता नहीं थे, वे हमारे शिक्षक भी थे, जिन्होंने हमें न केवल हमारी कला बल्कि जीवन जीने का तरीका भी सिखाया था। विरासत एक ऐसी चीज़ है जिसे कोई व्यक्ति याद रखने के लिए अपने पीछे छोड़ जाता है और चारों ओर देखने पर यह स्पष्ट हो गया है कि अम्मा और बाबू दोनों की विरासत निर्विवाद थी। हम हमेशा उस विरासत को आगे बढ़ाने और उसे नई ऊंचाइयों पर ले जाने का प्रयास करेंगे। यह सिर झुका हुआ है क्योंकि हमने इस दिन और हमेशा के लिए उनके जीवन का सम्मान किया है।

परंपरा को ध्यान में रखते हुए श्रीमती अन्न्पूर्णा देवी जी के नाम पर वार्षिक छात्रवृत्ति प्रदान करने की घोषणा की गई। इस वर्ष की योग्य प्राप्तकर्ता तृषा गुलाटी रहीं हैं, जो उभरती प्रतिभाओं के पोषण और समर्थन के प्रति हमारी प्रतिबद्धता का प्रमाण है।

कार्यक्रम का भव्य संचालन श्रीमती साधना श्रीवास्तव द्वारा किया गया। जिन्होंने दर्शकों के लिए एक सहज और गहन अनुभव सुनिश्चित किया। उपस्थित लोग गुरुवार को श्रद्धांजलि के लिए हमारे साथ शामिल हुए, जो कला, विरासत का उत्सव और उन अमर आत्माओं को श्रद्धांजलि है जो हमें प्रेरित करती रहती हैं।

19 जनवरी 2024 के विवरण की घोषणा गुरुवार 18 जनवरी के कार्यक्रम के अंत में की गई, जिसमें पंडित जयकिशन महाराज, रतेश एवं रजनीश मिश्रा, विश्वमोहन भट्‌ट और सलिल भट्‌ट जी के वीणा वादन की जुगलबंदी का प्रदर्शन किया जाएगा।

देश-विदेश