फर्जी स्टांप घोटाला: पुलिस को छानबीन में लग गए 6 महीने

फर्जी स्टांप घोटाला: पुलिस को छानबीन में लग गए 6 महीने

नई दिल्ली।

अब्दुल करीम तेलगी की तरह ही दिल्ली में भी स्टांप पेपर घोटाला सामने आया है। माना जा रहा है कि यह दिल्ली का अपना ‘मिनी तेलगी घोटाला’ हो सकता है। दिल्ली पुलिस ने छह महीने तक चले एक गुप्त ऑपरेशन में नकली स्टैंप पेपरों की डिजाइनिंग, छपाई और सप्लाई से जुड़े एक बड़े रैकेट का भंडाफोड़ किया है। मामले की जांच में 6 राज्यों में छापेमारी कर 13 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। सूत्रों ने बताया कि करोड़ों रुपए के नकली स्टांप बरामद किए गए। पुलिस ने न केवल ग्राहकों से लेन-देन करने वाले विक्रेताओं को पकड़ा, बल्कि मास्टरमाइंड को भी पकड़ा। इसके बाद उनकी फैक्ट्री को नष्ट कर दिया। सूत्रों ने बताया कि उन्होंने मेटल प्लेट, हाई-एंड कंप्यूटर, मशीनें, सॉफ्टवेयर और प्रिंटर बरामद किए।

पिछले साल 23 मई को पहली गिरफ्तारी

इस साल मई में एक वकील द्वारा धोखाधड़ी किए जाने का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज करने के बाद जांच शुरू की गई थी। नासिक में सरकारी प्रिंटिंग केंद्र ने पुष्टि की कि उसे बेचे गए टिकट असली नहीं थे। एक अधिकारी ने कहा कि जांच के दौरान, शिकायतकर्ता को नकली शेयर ट्रांसफर स्टांप बेचने वाले प्रदीप कुमार नाम के एक आरोपी को 23 मई को गिरफ्तार किया गया। उसके कब्जे से 2,700 नकली शेयर ट्रांसफर स्टांप बरामद किए गए। पूछताछ के दौरान आरोपी ने बताया कि ये स्टांप उसे अकबर नाम के शख्स और उसके भाई असगर ने बेचे थे। इसके बाद पुलिस ने छापेमारी की और भाई-बहन को गिरफ्तार कर लिया। उनके पास से और भी नकली शेयर ट्रांसफर स्टांप बरामद हुए।

दो मास्टरमाइंड चढ़े पुलिस के हत्थे

इसके बाद मामले में कुछ अन्य आरोपियों को गिरफ्तार किया गया जो लोगों को ये जाली स्टांप बेचते थे। पुलिस नामों पर चुप्पी साधे हुए है। कुछ आरोपियों से विस्तृत पूछताछ के दौरान यह सामने आया कि राकेश कुमार जयसवाल और रंजीत कुमार नाम के दो व्यक्ति मास्टरमाइंड थे। ये लोग गिरफ्तार किए गए कई आरोपियों को इन टिकटों की सप्लाई करते थे। इसके बाद इन दोनों संदिग्धों को मामले में गिरफ्तार कर लिया गया। उनकी निशानदेही पर, धातु की प्लेटों और अन्य उपकरणों के साथ नकली शेयर ट्रांसफर टिकटों को प्रिंट करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली मशीन को उनकी सुविधा से बरामद किया गया। पूछताछ के दौरान यह पता चला कि आरोपी जाली शेयर ट्रांसफर स्टांप, डाक टिकट और स्टांप पेपर को अपनी सुविधा पर प्रिंट करते थे। इसके बाद उन्हें अपने ‘डिस्ट्रीब्यूटर’ को देते थे। ये लोग इसे शहरों में ग्राहक को बेच देते थे।

दो करोड़ से अधिक की बरामदगी

नकली शेयर ट्रांसफर स्टांप, स्टांप पेपर और डाक टिकटों की कुल कीमत शुरुआत में 2.24 करोड़ रुपये से अधिक थी। एक अधिकारी ने कहा, कुल मिलाकर, मामले में 13 लोगों को गिरफ्तार किया गया। उनके खिलाफ दिल्ली की एक अदालत में उनकी कार्यप्रणाली का विवरण देते हुए एक आरोप पत्र दायर किया गया। पुलिस ने पाया कि आरोपी लग्जरी लाइफ जीने के शौकीन थे। उन्होंने जल्दी पैसा कमाने के लिए अपराध को अपनाया। वे अक्सर नाइट क्लबों में जाते थे। शराब और लग्जरी पर फिजूलखर्ची करते थे। ये ठीक उस अब्दुल करीम तेलगी की याद दिला देता है जिसने एक रात में एक डांस बार में 93 लाख रुपये खर्च किए थे।

पहले भी आया था मामला

दिल्ली में ऐसा बहुत कम होता है कि शहर की पुलिस नकली स्टांप पेपर प्रिंटिंग रैकेट का भंडाफोड़ करती हो। इस पैमाने की प्रिंटिंग सुविधा को नष्ट करती हो। 2003 में, दिल्ली पुलिस ने 1.5 करोड़ रुपये के नकली स्टांप पेपर बरामद किए थे। उत्तरी दिल्ली में एक जोड़े को गिरफ्तार किया था। नकली स्टैंप पेपर पूर्वी दिल्ली की एक फैक्ट्री में तैयार किए जा रहे थे। 2012 में, दिल्ली पुलिस के एक पूर्व इंस्पेक्टर को तेलगी घोटाले से जुड़े एक मामले में दोषी ठहराया गया था। सात साल पहले, पुलिस ने पटियाला हाउस अदालत में एक व्यवसायी को 1.5 लाख रुपये के नकली स्टांप पेपर बेचने के आरोप में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया था। फरहान (24) के रूप में पहचाने गए आरोपी ने अदालतों में अपने पिता, जो एक अनधिकृत स्टांप पेपर विक्रेता थे, की सहायता की थी। आरोपी 10 रुपये के डिजिटल स्टांप पेपर प्रिंट करते थे। इसके बाद उस हिस्से को खरोंच देते थे जहां 10 रुपये लिखा होता था। अधिकारियों ने कहा था कि फिर वह उसी फॉन्ट का इस्तेमाल खरोंच वाले हिस्से पर 500 रुपये लिखने के लिए करता था और स्टांप पेपर को मुनाफे पर बेचता था।

क्राइम