शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने दिल्ली में रोजगार कौशल संवर्धन कार्यक्रम किया लॉन्च

शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने दिल्ली में रोजगार कौशल संवर्धन कार्यक्रम किया लॉन्च

कार्यक्रम का लक्ष्य 10000 छात्रों को कौशल प्रदान करना और 500 संकाय सदस्यों को मार्गदर्शन देना है

नई दिल्ली।

केंद्रीय शिक्षा, कौशल विकास और उद्यमिता मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान ने आज नई दिल्ली स्थित एआईसीटीई मुख्यालय में पॉलिटेक्निक छात्रों के लिए “रोजगार कौशल संवर्धन कार्यक्रम” लॉन्च किया। यह उल्लेखनीय पहल ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन(एआईसीटीई) और वाधवानी फाउंडेशन के बीच एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है।

इस कार्यक्रम में श्री संजय मूर्ति (आईएएस) सचिव उच्च शिक्षा, श्री संजय कुमार (आईएएस) सचिव स्कूल शिक्षा, श्री अतुल तिवारी (आईएएस) सचिव कौशल विकास मंत्रालय, एआईसीटीई चेयरमैन प्रोफेसर टी.जी. सीताराम, चेयरमैन यूजीसी प्रोफेसर जगदीश कुमार और एनसीवीईटी चेयरमैन (आईएएस) श्री एनएस खालसी की गरिमामयी उपस्थिति रही।

यह कार्यक्रम प्रभावी बोलचाल और सुनने की क्षमता, प्रभावी लेखन कौशल, आत्म-प्रस्तुति, व्यक्तिगत कौशल, समस्या समाधान और नवाचार, पेशेवरता और वित्तीय साक्षरता से संबंधित मॉड्यूल कवर करता है।

रोजगार कौशल संवर्धन कार्यक्रम का प्राथमिक उद्देश्य पॉलिटेक्निक छात्रों को उनके भविष्य के करियर को बढ़ाने के लिए आवश्यक कौशल से लैस करना है। यह व्यावहारिक अनुभव और एक समृद्ध पेशेवर यात्रा के लिए मजबूत नींव की स्थापना पर जोर देता है। यह कार्यक्रम शैक्षणिक वर्ष 2023-24 में 10,000 छात्रों को कौशल प्रदान करने और 500 संकाय सदस्यों को मार्गदर्शन देने के लिए महत्वाकांक्षी लक्ष्य निर्धारित करता है, जो देश के पॉलिटेक्निक समुदाय में रोजगार क्षमता को बढ़ाने में महत्वपूर्ण योगदान देता है।

एआईसीटीई के बारे में: ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन(एआईसीटीई) भारत में तकनीकी शिक्षा के लिए वैधानिक निकाय और राष्ट्रीय स्तर की परिषद है, जो देश में तकनीकी शिक्षा की गुणवत्ता सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

वाधवानी फाउंडेशन के बारे में: वाधवानी फाउंडेशन एक वैश्विक गैर-लाभकारी संस्था है जिसका प्राथमिक मिशन कौशल, उद्यमशीलता, लघु व्यवसाय विकास और नवाचार में बड़े पैमाने पर पहल के माध्यम से रोजगार सृजन को बढ़ावा देकर आर्थिक विकास में तेजी लाना है।

शिक्षा