जबलपुर में सोते रहे अधिकारी और गरीबो को बटने लगा सडा गला अनाज

जबलपुर में सोते रहे अधिकारी और गरीबो को बटने लगा सडा गला अनाज

जबलपुर।

घटना करीब 15 दिन पहले की थी, लेकिन चौंकाने वाली थी। अधिकारियों और कर्मचारियों की लापरवाही के कारण नीलामी के लिए रखा गया सड़ा हुआ गेहूं जनता को बांटने के लिए राशन की दुकानों में पहुंच गया। जब लोगों ने गेहूं देखा तो वे तुरंत क्रोधित हो गये। तुरंत शिकायत दर्ज करें और गेहूं तुरंत बदलवाएं। मामले में कलेक्टर ने जांच टीम गठित की और जांच टीम की रिपोर्ट के बाद अब तीन पुलिस अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की गई है और उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

बताया जा रहा है कि हाल ही में गोरखपुर शहर के जॉर्ज डी सिल्वा जिले की तीन राशन दुकानों पर करीब 3200 बोरी बेहद खराब गुणवत्ता वाला गेहूं वितरण के लिए भेजा गया था। दुकानों से गेहूं का वितरण शुरू होते ही हंगामा मच गया। इस आशय की शिकायत कलेक्टर सौरभ कुमार सुमन को प्राप्त हुई थी। उन्होंने तुरंत गेहूं बदलने का आदेश दिया और जांच टीम गठित की। जांच दल में सहायक खाद्य आपूर्ति अधिकारी संजय खरे, कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी अनिता सोरटे और सुचिता दुबे शामिल थे। प्रारंभिक जांच के दौरान सिविल सप्लाई कंपनी के डीएम दिलीप किरार, वेयरहाउसिंग लिमिटेड के एरिया मैनेजर एसआर निमोदा और मंडी वेयरहाउस अधीक्षक रामकिशोर बैगा को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

देश-विदेश