मध्यप्रदेश में एक ही मामा, महान स्वतंत्रता सेनानी टंटया मामा, मैं उन्हें ही जानता हूँ – नेशनल कोर्डिनेटर श्री आकाश आनंद

मध्यप्रदेश में एक ही मामा, महान स्वतंत्रता सेनानी टंटया मामा, मैं उन्हें ही जानता हूँ – नेशनल कोर्डिनेटर श्री आकाश आनंद

विश्व आदिवासी दिवस पर देश और प्रदेश में दलितों आदिवासियों पर हो रहे अत्याचार को लेकर बसपा म.प्र. इकाई ने पैदल मार्च निकाल कर महामहिम राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन

भोपाल।

यह पैदल मार्च भोपाल के डॉ. अम्बेडकर जंयती मैदान से सुबह 11 बजे निकाला गया जिसमें विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर बहुजन समाज पार्टी म.प्र. इकाई ने भाजपा सरकार में आदिवासी, दलित और पिछड़े वर्गों के खिलाफ हो रहे अन्याय अत्याचार और जनहित मुद्दो को हल न करने के विरोध में एक दिवसीय पैदल मार्च निकाला और महामहिम राज्यपाल के समक्ष अपराधिक तत्वों के खिलाफ कार्यवाही करने के की मांग रखी व ज्ञापन सौपा और इन्हे हल करने का अनुरोध किया गया ।

इस पैदल मार्च में बहुजन समाज पार्टी के नेशनल कोर्डिनेटर श्री आकाश आनंद जी, सांसद राज्यसभा और केंद्रीय कोर्डिनेटर श्री इंजी. रामजी गौतम जी और बसपा प्रदेश अध्यक्ष श्री इंजी. रमाकांत पिप्पल जी के नेतृत्व में इस कार्यक्रम के दौरान बसपा के केंद्रीय कोर्डिनेटर श्रीकांत जी, केंद्रीय कोर्डिनेटर श्री मुकेश अहिरवार जी सहित प्रदेश के प्रभारीगण रमेश डावर, सुनील बघेल, जियालाल अहिरवार, बालकिशन अहिरवार सहित जोन प्रभारीगण, जिला प्रभारीगण, जिला कमेटी, विधानसभा कमेटी नगर कमेटी विधायक पूर्व विधायकगण सहित अन्य जनप्रतिनिधि उपस्थित हुए ।

इस एक दिवसीय पैदल मार्च और ज्ञापन कार्यक्रम के दौरान नेशनल कोर्डिनेटर श्री आकाश आनंद जी ने कहा, ” यह प्रदर्शन एक महत्वपूर्ण संदेश देता है कि बसपा न केवल सियासी दल बल्कि एक समाजिक आन्दोलन भी है, जो समाज के पिछड़े वर्गों की आवश्यताओं की रक्षा करने के लिये एक साझा आवाज उठाने का भी प्रतीक है जो उनके विकास और समृध्दि के मार्ग में महत्वपूर्ण है।” “उन्होने कहा की बसपा ने महामहिम राज्यपाल को ज्ञापन सौपते हुये राज्य में कानून का राज स्थापित करने के लिये उचित कदम उठाने और अपराधिक तत्वो के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग की है।”

श्री आकाश आनंद जी कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री खुद को जनता का मामा कहते है। लेकिन मैं ये साफ कर दू कि म.प्र. में एक ही मामा है उसका नाम टंटया मामा हैं मैं तो उन्ही का नाम जानता हूँ। म.प्र. के लोगो को भी पता है कि आजादी की लड़ाई में अंग्रेजो को नाकों तले चने चबवाने वाले रॉबिन हूड महान स्वतंत्रता सैनानी टंटया भील जिन्हें सभी प्यार से टंटया गागा कहते है यही म.प्र. के और हमारे असली मामा है।

प्रदेश में आदिवासी और दलित समाज के साथ पिछड़ा वर्ग के और अल्पसंख्यक समुदाय के साथ जो भेदभाव और अत्याचार की हर दिन जिस तरह से खबरे सामने आती है। उसमें टंटया मामा का बलिदान है उसे देखकर आज टंटया मामा भी दुखी होगे। प्रदेश में बसपा की सरकार बनेगी तो हम टंटया मामा सहायता कोष खोलेगें और हर गरीब, शोसित, वंचित बच्चों को शिक्षा और जरूरी मदद करेगें। मैं मध्य प्रदेश के लोगो से निवेदन करूगा कि चुनावी मामा से सावधान रहे।

सासंद राज्यसभा और केंद्रीय कोर्डिनेटर बसपा श्री इंजी. रामजी गौतम ने कहा, “इस प्रदर्शन के माध्यम से बसपा ने सामाजिक समरसता, न्याय और समाज में निर्विवाद विकास के लिये अपने संकल्प को पुनः प्रकट किया है। यह पैदल मार्च एक उत्कृष्ट माध्यम है जिसके माध्यम से आदिवासी, दलित और पिछड़े वर्गों को उनके अधिकारो की प्राप्ति के लिये संघर्ष करने का एक महत्वपूर्ण मंच प्राप्त हुआ है।”

म.प्र. के बसपा प्रदेश अध्यक्ष श्री इजी. रमाकांत पिप्पल ने कहा, “हाल ही के दिनो कुछ ऐसी घटनाएं हुई है जिनसे आदिवासियों, दलित और पिछड़े वर्ग के लोगो पर अन्याय व अत्याचार होना प्रदर्शित होता है। विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर भाजपा सरकार में आदिवासी, दलित व पिछड़े वर्गों के प्रति हो रहे अन्याय के खिलाफ बसपा का इस पैदल मार्च के माध्यम से समाज जागरूकता और समर्थन बढाने का प्रयास है। वह आदिवासी समुदायों के अधिकारो की रक्षा के लिये एक सामूहिक मंच प्रदान कर रहें है।”

बसपा कोषाध्यक्ष सी. एल. गौतम ने कहा, “मप्र सरकार ने पिछड़े वर्ग को 27 फीसदी आरक्षण देने की वाजिव मांग आज तक पूरी नहीं की है और बेरोजगारी में बेतहाशा वृध्दि हुई है। वही सरकार में घोटाले सामने आ रहे है इसके बाबजूद दोषियों पर कोई कार्यवाही नही हुई है। उन्होने कहा की अगर उनकी मांगो पर आगे कोई कार्यवाही नही होती तो फिर राज्य सरकार के खिलाफ बड़ा आन्दोलन छेड़ा जाएगा।

देश-विदेश पॉलिटिक्स