नेशनल एजुकेशनल टेक्नोलॉजी फोरम(एनईटीएफ) ने शिक्षा परिदृश्य को बदलने के लिए 14 समझौता ज्ञापनों पर किए हस्ताक्षर

नेशनल एजुकेशनल टेक्नोलॉजी फोरम(एनईटीएफ) ने शिक्षा परिदृश्य को बदलने के लिए 14 समझौता ज्ञापनों पर किए हस्ताक्षर

एनईटीएफ ने शिक्षा में कौशल उन्नयन और डिजिटलीकरण के लिए बनाई है रणनीतिक साझेदारी

प्रमुख हितधारक प्रौद्योगिकी के माध्यम से शैक्षिक उत्कृष्टता बढ़ाने के लिए हुए एकजुट

नई दिल्ली।

राष्ट्रीय शिक्षा नीति, एनईपी 2020 की तीसरी वर्षगांठ के उपलक्ष्य में अखिल भारतीय शिक्षा समागम 2023 दो दिवसीय कार्यक्रम प्रगति मैदान में सम्पन्न हुआ। इस आयोजन के दौरान नेशनल एजुकेशनल टेक्नोलॉजी फोरम (एनईटीएफ) ने अपस्किलिंग, रीस्किलिंग, प्लेसमेंट, इंटर्नशिप, डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर, वर्कशॉप और सर्टिफिकेशन के माध्यम से रोजगार क्षमता बढ़ाने के लिए भारत के विभिन्न उद्योग डोमेन के 14 संगठनों के साथ समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए।

आईईसीसी कॉम्पलेक्स में आयोजित एमओयू हस्ताक्षर समारोह में माननीय शिक्षा मंत्री श्री धमेंद्र प्रधान, माननीय शिक्षा राज्य मंत्री श्री सुभाष सरकार और एआईसीटीई के चेयरमैन प्रोफेसर टीजी सीताराम, एनईटीएफ चेयरमैन प्रोफेसर अनिल डी सहस्त्रबुद्धे और एनईएटी-एआईसीटीई सीसीओ श्री बुद्ध चंद्रशेखर सहित विभिन्न् संगठनों के प्रतिष्ठित प्रतिनिधि उपस्थित रहे।

यह सहयोगात्मक पहल नेशनल एजुकेशनल टेक्नोलॉजी फोरम (एनईटीएफ) की स्थापना की प्रतीक है, जिसका लक्ष्य टेक्नोलॉजी की शक्ति के माध्यम से शिक्षा क्षेत्र में क्रांति लाना है। यह मंच शिक्षा और टेक्नोलॉजी के बीच की खाई को खत्म करेगा। शिक्षकों, नीति निर्माताओं और उद्योग जगत के नेताओं के बीच तालमेल को बढ़ावा देगा। यह अत्याधुनिक शैक्षिक टेक्नोलॉजियों और सर्वोत्तम प्रथाओं को विकसित करने के लिए विचारों, संसाधनों और विशेषज्ञता को साझा करने के लिए एक मंच के रूप में काम करेगा, जिससे सभी शिक्षार्थियों के लिए गुणवत्तापूर्ण शिक्षा तक समान पहुंच सुनिश्चित होगी।

एआईसीटीई के चेयरमैन प्रोफेसर टी जी सीताराम ने कहा, “नेशनल एजुकेशनल टेक्नोलॉजी फोरम के साथ रणनीतिक साझेदारी के माध्यम से हम भारत में शिक्षा में क्रांति लाने के लिए एक परिवर्तनकारी यात्रा शुरू कर रहे हैं। टेक्नोलॉजी की क्षमता का उपयोग करके हमारा लक्ष्य शिक्षार्थियों को सशक्त बनाना, इनोवेशन को बढ़ावा देना है। और एक समावेशी और भविष्य के लिए तैयार शिक्षा परिदृश्य का मार्ग प्रशस्त करना है।”

एनईटीएफ के चेयरमैन प्रोफेसर अनिल डी सहस्रबुद्धे ने शिक्षा के भविष्य को आकार देने में सामूहिक कार्रवाई की भावना पर जोर देते हुए इस अभूतपूर्व सहयोग के लिए उत्साह व्यक्त किया। उन्होंने कहा, “एनईटीएफ एक ऐसे भविष्य की कल्पना करता है जहां टेक्नोलॉजी शिक्षा के साथ निर्बाध रूप से एकीकृत हो, शिक्षार्थियों और शिक्षकों को समान रूप से सशक्त बनाए, आजीवन सीखने पर ध्यान केंद्रित करने वाले ज्ञान-संचालित समाज को बढ़ावा दे।

एनईटीएफ, एक अग्रणी संगठन, शिक्षार्थियों और शिक्षकों को सशक्त बनाने और शिक्षा के लिए एक उज्जवल भविष्य बनाने के लिए एक मजबूत प्रतिबद्धता के साथ, नवीन समाधानों और साझेदारियों के माध्यम से शिक्षा क्षेत्र में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए समर्पित है।

देश-विदेश शिक्षा