वंदे भारत ट्रेन के यात्रियों को एक और तोहफा, लंबी दूरी में बैठे-बैठे होने वाले दर्द से मिलेगी राहत

वंदे भारत ट्रेन के यात्रियों को एक और तोहफा, लंबी दूरी में बैठे-बैठे होने वाले दर्द से मिलेगी राहत

नई दिल्ली।

वंदे भारत ट्रेन से सफर करने वालों के लिए अच्‍छी खबर है। अभी तक वंदे भारत ट्रेन से लोग सीट पर बैठकर अपनी यात्रा पूरी करते थे। ऐसे में कई बार लंबी दूरी तक बैठने से परेशानी भी होती थी। फ‍िलहाल अब इस परेशानी से निजात मिलने वाली है। भारतीय रेलवे ने वंदे भारत के यात्रियों के लिए बड़ा ऐलान किया है। जल्‍द ही वंदे भारत ट्रेन में लोग स्‍लीपर का मजा ले सकेंगे। यानी आप वंदे भारत ट्रेन में लेटकर सो भी सकेंगे।

लेटकर यात्रा का मजा ले सकेंगे

रिपोर्ट्स के मुताबिक, भारतीय रेल स्लीपर डिब्बों वाली वंदे भारत ट्रेन को उतारने की तैयारी में है। जानकारी के मुताबिक वंदे भारत ट्रेन में स्‍लीपर कोच का निर्माण जून 2025 तक शुरू हो जाएगा। वंदे भारत की शयनयान कोच से सजी ट्रेनों का वाणिज्यिक उत्पादन टीटागढ़ रेल सिस्टम्स लिमिटेड (टीआरएसएल) के उत्तरपाड़ा संयंत्र में जून, 2025 से शुरू होगा।

इनको मिली जिम्‍मेदारी

भारतीय रेलवे के मुताबिक वंदे भारत ट्रेन में स्‍लीपर कोच लगाने के लिए बीएचईएल को जिम्‍मा दिया है। शुरुआत में 80 सेट बनाए जाएंगे। वंदे भारत की यह स्लीपर ट्रेन अभी तक परिचालन में मौजूद वंदे भारत ट्रेन से बिल्‍कुल अलग होगी। इसमें बैठने वाली सीटों की जगह यात्रियों के सोने लायक सीट लगाई जाएंगी।

यहां होगा निर्माण

भारतीय रेलवे के एक अधिकारिक सूत्र के मुताबिक वंदे भारत स्लीपर ट्रेन का उत्पादन जून, 2025 से शुरू होगा और इसके लिए उत्तरपाड़ा संयंत्र में जरूरी ढांचा तैयार का काम शुरू कर दिया गया है। बताया गया है कि वंदे भारत स्लीपर ट्रेन का पहला प्रोटोटाइप दो साल के भीतर तैयार कर लिया जाएगा। पहली आठ ट्रेनें पूरी तरह उत्तरपाड़ा संयंत्र में बनाई जाएंगी जबकि बाकी ट्रेनों को रेलवे के चेन्नई संयंत्र में असेंबल किया जाएगा।

देश-विदेश व्यापार