चंद्रयान-3 ने पूरा किया धरती के चारों तरफ ऑर्बिट का चक्कर, ISRO ने की घोषणा

चंद्रयान-3 ने पूरा किया धरती के चारों तरफ ऑर्बिट का चक्कर, ISRO ने की घोषणा

नई दिल्ली।

भारत के महत्वाकांक्षी चंद्र मिशन चंद्रयान-3 ने चंद्रमा पर पहुंचने से पहले अपना अंतिम चरण पूरा कर लिया है। उसने आज अंतिम कक्षा-उत्थान प्रक्रिया को अंजाम दिया है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने घोषणा की है कि अब यह समाप्त हो गया तो अंतरिक्ष यान चंद्रमा पर प्रवेश के लिए खुद को संरेखित कर लेगा।

बता दें कि 14 जुलाई को लॉन्च किया गया चंद्रयान-3, पृथ्वी के चारों ओर अपनी कक्षा को लगातार ऊपर उठा रहा है और अपनी अंतिम यात्रा के लिए तैयार हो गया है। 3,900 किलोग्राम वजनी चंद्रयान पेलोड में एक लैंडर, रोवर और एक प्रोपल्शन मॉड्यूल शामिल है, जो चंद्रमा के चारों ओर 100 किमी ध्रुवीय कक्षा तक पहुंचने तक एकीकृत रहेगा. मिशन के दौरान रोवर पूरी तरह से लैंडर से संपर्क करेगा।

यह मिशन भविष्य के अंतरग्रहीय प्रयासों के लिए महत्वपूर्ण महत्व रखता है। मार्स ऑर्बिटर मिशन (एमओएम) मंगलयान की सफलता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली प्रमुख वैज्ञानिक डॉ. सीता कहती हैं, ‘आगामी अंतरग्रही मिशनों के लिए सुरक्षित लैंडिंग महत्वपूर्ण है। चंद्रमा के लिए भव्य योजनाओं के साथ, भारत का लक्ष्य अच्छी तरह से तैयार होना है।’

एक चंद्र दिवस के बराबर 14 पृथ्वी दिवसों के अपने मिशन जीवन के दौरान, अंतरिक्ष यान कई इन-सीटू प्रयोगों का संचालन करेगा। यह चंद्रमा के ध्रुवीय क्षेत्र के पास थर्मल गुणों की जांच करेगा, भूकंपीय गतिविधि को मापेगा और चंद्र प्रणाली की गतिशीलता को समझने का प्रयास करेगा।

मिशन का अंत और वैज्ञानिक उद्देश्य

पृथ्वी से चंद्रमा तक की यात्रा में लगभग एक महीना लगने का अनुमान है। लैंडिंग वर्तमान में 23-24 अगस्त के लिए निर्धारित है, चंद्रमा के सूर्योदय के आधार पर संभावित समायोजन के साथ, अगर जरूरत पड़ी तो इसरो सितंबर के लिए लैंडिंग को पुनर्निर्धारित करने पर विचार करेगा। इसरो के पूर्व अध्यक्ष के. सिवन द्वारा इस लैंडिंग चरण को ‘आतंक के 15 मिनट’ के रूप में संदर्भित किया गया है, जो इसे मिशन की सफलता के लिए एक महत्वपूर्ण क्षण बनाता है।

टेक्नोलॉजी देश-विदेश