वर्ल्ड कप का बहिष्कार नहीं कर सकता पाकिस्तान, आईसीसी रोक सकता है फंडिंग

वर्ल्ड कप का बहिष्कार नहीं कर सकता पाकिस्तान, आईसीसी रोक सकता है फंडिंग

चैंपियंस ट्रॉफी मेजबानी से भी धोना पड़ सकता हाथ!

नई दिल्ली।

पाकिस्तान पहली बार पूरी तरह से भारत की मेजबानी में होने वाले विश्व कप का बहिष्कार करने की धमकी दे रहा है। पाकिस्तान के खेल मंत्री एहसान मजारी ने रविवार को कहा, मैं यह चाहता हूं कि भारत तटस्थ या कहे तो सुरक्षित अन्य जगहों पर एशिया कप खेलने का मार्ग छोड़ दें अन्यथा हम भारत में विश्व कप खेलने नहीं जाएंगे। हालांकि सभी कारणों से संकेत मिलता है कि पाकिस्तान के लिए 5 अक्टूबर से होने वाले वनडे विश्व कप का बहिष्कार करना संभव नहीं होगा।

आईसीसी (अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद) और बीसीसीआई के संपर्क में रहने वाले एक सूत्र द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार भारत, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के अलावा अन्य देशों के क्रिकेट बोर्ड आईसीसी से मिलने वाले फंड पर निर्भर हैं। आईसीसी का अधिकांश राजस्व विश्व कप और चैंपियंस ट्रॉफी जैसे आयोजनों से आता है। यह फंड आईसीसी द्वारा सभी बोर्डों को वितरित किया जाता है। पाकिस्तान क्रिकेट भी इसी फंड से चलता है। भारत, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बाद आईसीसी पाकिस्तान को सबसे अधिक पैसा देता है, जो परिषद के कुल राजस्व का 5 फीसदी है। आईसीसी फंड से प्राप्त राशि पाकिस्तान बोर्ड की कुल आय का 50 फीसदी है।

वर्ल्ड कप बहिष्कार का पाकिस्तान पर क्या असर?

अगर पाकिस्तान भारत में होने वाले वर्ल्ड कप का बहिष्कार करता है तो पीसीबी को चार बड़े नुकसान हो सकते हैं…..

  1. विश्व कप के बहिष्कार की स्थिति में पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को आईसीसी से मिलने वाला फंड बंद हो सकता है। पीसीबी की कुल आय का 50 फीसदी इसी फंड से आता है। आईसीसी वितरण योजना के अनुसार पाकिस्तान बोर्ड को अगले 4 वर्षों में 283 करोड़ रुपये मिलेंगे। अगर इतनी बड़ी रकम रोकी गई तो पाक बोर्ड की हर गतिविधि बंद हो जाएगी।
  2. बहिष्कार की स्थिति में पाकिस्तान क्रिकेट जगत से अलग-थलग हो जाएगा, क्योंकि विश्व कप, चैंपियंस ट्रॉफी और एशिया कप जैसे आयोजन ही पाकिस्तान को विश्व क्रिकेट समुदाय से जोड़ते हैं। 2009 में श्रीलंकाई टीम पर हुए आतंकवादी हमले के बाद से प्रमुख क्रिकेट टीमें पाकिस्तान में खेलने से कतरा रही हैं। ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, श्रीलंका और इंग्लैंड जैसे देशों ने पिछले साल से पाकिस्तान में क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया है, लेकिन अभी भी अन्य देशों की तुलना में पाकिस्तान में कम क्रिकेट खेला जाता है। विश्व कप जैसे आयोजनों का बहिष्कार करने पर पाकिस्तान अलग-थलग पड़ सकता है।
  3. वर्ल्ड कप नहीं खेलने पर आईसीसी पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड पर बैन भी लगा सकती है। पाकिस्तान पर अनुशासनात्मक कार्यवाही के तहत प्रतिबंध लगाया जा सकता है, क्योंकि आईसीसी आयोजनों में सभी टीमों की भागीदारी अनिवार्य है।
  4. अगर विश्व कप में पाक भाग नहीं लेता तो 2025 में पाकिस्तान में होने वाली चैंपियंस ट्रॉफी संकट में पड़ जाएगी, क्योंकि उस स्थिति में भारत चैंपियंस ट्रॉफी खेलने के लिए पाकिस्तान नहीं जाएगा। आईसीसी आयोजनों की सफल मेजबानी भारत के बिना संभव नहीं है क्योंकि आईसीसी आयोजनों का 80 फीसदी राजस्व भारतीय आगंतुकों से आता है। ऐसे में आईसीसी पाकिस्तान से चैंपियंस ट्रॉफी की मेजबानी छीन सकती है। बता दें कि 29 साल बाद पाकिस्तान आईसीसी इवेंट की मेजबानी करेगा।
खेल देश-विदेश