11 साल से बैंकों को चपत लगाने वाली सुपर खिलाड़न हुई गिरफ्तार, पुलिस से लेकर सीबीआई तक के पकड़ने में छूट गए पसीने

रोहिणी इलाके से की गई गिरफ्तार

नई दिल्ली।

दिल्ली पुलिस ने उस सुपर खिलाड़न को गिरफ्तार करने में कामयाबी पाई है जिसने 11 सालों से तीन राज्यों की पुलिस के साथ-साथ सीबीआई के भी पसीने छुड़ाए हुए थे। अपने पति के साथ देश के कई प्रतिष्ठित बैंकों को करीब 35 करोड़ रुपए की चपत लगाने वाली इस सुपर खिलाड़न को दिल्ली के रोहिणी इलाके से गिरफ्तार किया गया है। महिला की पहचान चंचल गोयल के रूप में हुई है। इस महिला के खिलाफ सीबीआई में एक और दिल्ली के विभिन्न थानों में 5 मामले दर्ज हैं।

उत्‍तरी जिला पुलिस उपायुक्‍त मनोज कुमार मीणा ने बताया कि आरोपी महिला चंचल गोयल पर कार लोन के नाम पर इलाहाबाद बैंक (मौजूदा इंडियन बैंक) को 18.25 लाख रुपए की चपत लगाने का आरोप है। इस सुपर खिलाड़न की जालसाजी से जुड़ा यह मामला इलाहाबाद बैंक के चीफ मैनेजर की शिकायत पर 26 मार्च 2022 को उत्‍तरी जिला के तिमारपुर थाने में दर्ज कराया गया था। उन्‍होंने बताया कि इस मामले में चंचल गोयल के साथ उसका पति दीपक गोयल और विनय अग्रवाल को भी सह आरोपी बनाया गया है।

डीसीपी मनोज कुमार मीणा के अनुसार आरोपी चंचल गोयल ने दीपक गोयल और विनय अग्रवाल के साथ मिलकर चारू मोटर्स के नाम पर फर्जी दस्‍तावेज तैयार किए। इसके बाद चंचल गोयल ने तीन कारों के लिए तिमारपुर के बीडी स्‍टेट स्थित इलाहाबाद में आवेदन कर दिया। आवेदन के दौरान दीपक गोयल और विनय अग्रवाल को गांरटर के तौर पर पेश किया गया था। इलाहाबाद बैंक ने इस लोन को प्रॉसेस कर 18.25 लाख रुपए का ड्राफ्ट चंचल गोयल के हाथों में थमा दिया। इस ड्राफ्ट को जयपुर की एक निजी बैंक में कैश कराया गया था।

बैंक भी एकाउंट डिटेल खोजने में हो गया फेल

डीसीपी मनोज कुमार मीणा के अनुसार चारू मोटर्स का यह खाता एक निजी बैंक में था। उत्‍तरी जिला पुलिस ने उपलब्‍ध जानकारियों के आधार पर बैंक से जानकारी मांगी, लेकिन बैंक इस खाते के बारे में कोई जानकारी देने में विफल रहा। साथ ही बैंक की स्‍पेशल टीम भी इस खाते के बारे में कोई भी जानकारी इकट्ठा करने में पूरी तरह से विफल साबित हुई। बैंक की तरफ से हाथ खड़े करने के बाद दिल्‍ली पुलिस की एक डेडिकेटेड टीम उपलब्‍ध सुरागों की मदद से इस खाते का पता लगाने में जुटी रही और एक दिन उसे सफलता मिल गई।

खातों से पुलिस को मिला सुपर खिलाड़न का सुराग

डीसीपी मनोज कुमार मीणा के अनुसार चारू मोटर्स के एकांउट डिटेल से पता चला कि 18.25 लाख रुपए को चारू मोटर्स के खाते से मुंबई के टी एण्‍ड टी मोटर्स और मुंबई के ही पुष्‍पेंद्र सिंह के खातों में ट्रांसफर किया गया था। तिमारपुर थाना पुलिस के हाथ लगी इस जानकारी ने सीबीआई और दिल्‍ली पुलिस की एक दशक पुरानी कवायद को अंजाम तक पहुंचा दिया। इसके बाद पुलिस ने एक सीक्रेट इंफार्मेशन के आधार पर आरोपी चंचल गोयल को दिल्‍ली के रोहिणी इलाके से गिरफ्तार कर लिया। वहीं चंचल से पूछताछ में उसके पति दीपक गोयल का भी ठिकाना मिल गया।

मियां-बीवी का खुलासा सुन पुलिस भी हो गई हैरान

डीसीपी मनोज कुमार मीणा ने बताया कि पूछताछ के दौरान चंचल और दीपक ने खुलासा किया कि उन्‍होंने इलाहाबाद बैंक को करीब 49 लाख रुपए की चपत लगाई थी। उन दोनों ने मिलकर सिर्फ इलाहाबाद बैंक को ही नहीं, बल्कि पंजाब एण्‍ड सिंध बैंक को फर्जी होम लोन के नाम पर 4.5 करोड़ रुपए की चपत लगाई है। 2013 में सीबीआई ने भी इनके खिलाफ धोखाधड़ी की एक एफआईआर दर्ज कर रखी है। इनके खिलाफ चीटिंग का पहला केस दिल्‍ली के उत्‍तम नगर थाने में दर्ज किया गया था। यह चीटिंग करीब 30 करोड़ रुपए की थी।

दिल्‍ली, हरियाणा और राजस्‍थान में भी दर्ज हैं केस

डीसीपी मनोज कुमार मीणा के अनुसार आरोपी दीपक गोयल के खिलाफ अब तक धोखाधड़ी के कुल 16 मामले दर्ज हैं, जिसमें सीबीआई, राजस्‍थान पुलिस और हरियाणा पुलिस में एक-एक मामला दर्ज है। बाकी के 13 मामले दिल्‍ली के विभिन्‍न थानों में दर्ज हैं। वहीं दीपक की पत्‍नी चंचल के खिलाफ धोखाधड़ी के कुल पांच केस दर्ज हैं, जिसमें एक केस सीबीआई में और बाकी के चार केस दिल्‍ली के विभिन्‍न थाना क्षेत्रों में दर्ज हैं। दीपक और चंचल से उत्‍तरी जिला पुलिस की पूछताछ अभी जारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *