नई दिल्ली।

दिल्ली के सरिता विहार में सोमवार दोपहर चलती हुई ताज एक्सप्रेस में अचानक आग लग गई। यात्रियों ने सूझबूझ दिखाते हुए तुरंत चेन खींचकर गाड़ी को रोका। कुछ यात्री गाड़ी से कूद गए तो कुछ ने अगले कोच में जाकर अपनी जान बचाई। इस दौरान दो बोगी पूरी तरह से जल गई। मौके पर पहुंची दमकल की छह गाड़ियों ने आग पर काबू पाया। घटना में किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है।

डी-2, डी-3 और डी-4 में आग

रेलवे डीसीपी केपीएस मल्होत्रा ने बताया कि शाम 4.41 बजे सरिता विहार स्थित अपोलो अस्पताल के समीप रेलगाड़ी में आग लगने की कॉल हजरत निजामुद्दीन रेलवे थाना को मिली थी। दिल्ली से झांसी जा रही ताज एक्सप्रेस के कोच नंबर डी-2, डी-3 और डी-4 में आग लगी थी। यह तीनों ही कोच चेयर कार वाले थे। डी-2 का केवल 10 फीसदी हिस्सा, जबकि अन्य दोनों कोच पूरी तरह जल गए।

एक घंटे की मशक्कत के बाद पाया काबू

जांच में पता चला कि सोमवार को यह गाड़ी 10 घंटे देरी से दोपहर तीन बजे नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से झांसी के लिए चली थी। जबकि यह सुबह 7 बजे चलती है। ट्रेन जब ओखला से तुगलकाबाद के बीच पहुंची तो अचानक कोच में आग लग गई। दमकल विभाग के अनुसार, लगभग एक घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया।

कारणों की जांच होगी

उत्तर रेलवे के मुख्य प्रवक्ता दीपक कुमार ने बताया कि आग लगने के कारणों का पता लगाया जा रहा है। घटना के बाद दूसरी रेलगाड़ी से यात्रियों को झांसी के लिए रवाना किया गया है। वहीं इस ट्रेन को तुगलकाबाद ले जाया गया, जहां से इन कोचों को हटाने के बाद रात लगभग 8.30 बजे ट्रेन को झांसी के लिए रवाना किया गया।

यात्रियों की सूझबूझ से टला बड़ा हादसा

रेलवे अधिकारियों के अनुसार, आग लगने के बाद यात्रियों ने सूझबूझ का परिचय देते हुए पुलिंग चेन खींचकर गाड़ी रोक ली और खुद दूसरे कोच में जाकर अपनी जान बचाई। वहीं, समय पर सूचना मिलने के चलते दमकल विभाग ने भी तुरंत आग को बुझाया। इसके चलते बड़ा नुकसान होने से बच गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *